अफगानी राष्ट्रपति आए मीडिया के सामने, कहा- काबुल में रुकता तो कत्लेआम हो जाता

तालिबान के कब्जे के बाद अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी पर देश को छोड़कर भागने का आरोप लगाया जा रहा है. जिसकी सफाई देते हुए अशरफ गनी अब मीडिया के सामने आए हैं. उनका कहना है कि अगर वो काबुल छोड़कर नहीं जाते तो कत्लेआम मच जाता. UAE से अफगानिस्तान की जनता को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि ढेर सारे पैसे लेकर भागने का जो आरोप उनपर लगा है वो पूरी तरह से गलत है.

मीडिया के सामने अशरफ गनी ने कहा, ‘भगोड़ा कहने वालों को मेरे बारे में जानकारी नहीं है, जो मुझे नहीं जानते वे फैसला ना सुनाएं.’ बता दें कि अशरफ गनी पर तालिबान के कब्जे से पहले ढेर सारे पैसे लेकर देश छोड़कर भागने का आरोप लगा है.

वहीं गनी ने यूएई से अफगानी जनता को संबोधित करते हुए कहा है कि तालिबान से बातचीत का कोई नतीजा नहीं निकलने वाला था और इसी वजह से उन्होंने देश छोड़ा क्योंकि वो कत्लेआम नहीं होने देना चाहते थे. उनका कहना है कि उन्होंने अपने देश के लोगों को खूनी जंग से बचाया है और फिलहाल सुरक्षा कारणों से ही देश से दूर हैं. वहीं अशरफ गनी का कहना है कि उन्हें उनकी इच्छा के विरुद्ध सुरक्षाबलों ने देश से बाहर भेजा है, जिनका वो शुक्रिया अदा करते हैं.

बताते चलें अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी इस वक्त अपने परिवार के साथ यूएई में हैं. इस बात की पुष्टि यूएई के विदेश मंत्रालय ने की है. यूएई विदेश मंत्रालय ने बुधवार को एक बयान जारी करते हुए कहा कि यूएई ने मानवीय आधार पर अशरफ गनी और उनके परिवार का स्वागत किया है.

You may also like...