सभी पुरुष अपनी पत्नी और गर्लफ्रेंड से छुपाते हैं ये 4 बातें…

क्या आपको पता है कि हर आदमी अपनी पत्नी या फिर गर्लफ्रेंड से कुछ बातें छिपाता है?. दरअसल, जब दो लोग रिलेशनशिप में आते हैं तो उनके बीच बहुस सारी बातें होती हैं. दोनों एक दूसरे को अच्छे से समझने लगते हैं और धीरे-धीरे विश्वास इतना गहरा हो जाता है कि आंख बंद कर दोनों एक दूसरे पर भरोसा कर लेते हैं, लेकिन कुछ बातें ऐसी होती हैं, जो हर आदमी अपनी पत्नी या फिर गर्लफ्रेंड के साथ शेयर करने से कतराता है. आज हम वही बातें आपको इस खबर में बता रहे हैं.

दरअसल, कहा जाता है कि एक रिश्ते में जहां महिलाओं को उनकी भावनाओं और असहमति के बारे में ज्यादा स्पष्ट समझा जाता है, तो वहीं पुरुष उन बातों को अधिकतर दबाने का प्रयास करते हैं, जिससे दोनों के बीच झगड़ा हो सकता है. वैसे तो हर पुरुष कभी-कभी अपने अंदर चल रही उथल-पुथल को अपने साथी के साथ शेयर करना चाहते हैं, मगर उनके अंदर पनपी हुई असुरक्षा की भावना के चलते पुरुष ऐसा नहीं करते, क्योंकि इससे उनका मर्दाना रूप धुंधला हो जाता है.

यह बातें हर पुरुष अपने पार्टनर को नहीं बताता

1. दूसरी महिलाओं की ओर आकर्षित होना

एक शोध के अनुसार ज्यादातर पुरुषों की सच्चाई है कि वह अपनी पत्नी या गर्लफ्रेंड से इस बात को छिपाता है कि वह दूसरी महिलाओं की ओर आकर्षित हो रहा है. पुरुषों को लगता है कि यह बात पता चलने पर किसी भी महिला बहुत अधिक बुरा लग सकता है. वैसे तो किसी की भी सुंदरता और उसके स्वभाव की तारीफ करना बेहद स्वाभाविक है, लेकिन इस बात को हर इंसान अपने पार्टनर से छिपाके रखता है.

2. एक समय पर पार्टनर को अधिक चिड़चिड़ा देखना

एक पुरुष अपने पार्टनर से भले ही बेहद प्यार क्यों न करता हो मगर कभी-कभी उसे ऐसा भी लग सकता है कि आपका पार्टनर आपसे चिड़चिड़ा हो रहा है. इस स्थिति में महिलाएं जोर-शोर से इस बात को अपने पार्टनर से कह देती हैं, लेकिन एक पुरुष इसे जाने दे वाली स्थिति समझता है और अपने साथी को खुश करने के लिए हर संभव प्रयास करता है.

3. अपनी इस कमजोरी को छिपाते हैं पुरुष

भारतीय समाज में ऐसी धारणा बनी हुई है कि पुरुष घर का मुखिया होता है. इसलिए पुरुष को मेन ऑफ द हाउस भी कहा जाता है. समाज में पुरुष को दी गई इस भूमिका की वजह से पुरुषों को वित्तीय असुरक्षा और काम की अक्षमता के दबाव को महसूस कराने की ज्यादा संभावनाएं रखी जाती हैं. जब पुरुषों में यह असुरक्षा की भावना घर कर जाती है तो वो इसे अपने पार्टनर से छिपाने के लिए झूठ की मदद लेते हैं, क्योंकि वह पार्टनर के सामने अपनी इस कमजोरी को दिखाना नहीं चाहते.

4. अपनी वास्तविकता को छिपाए रखना

अक्सर लोग यह नहीं समझ पाते हैं एक कि पुरुष भी भावनात्मक तौर से पीड़ित हो सकता है और उस भावना को बाहर निकालने की जरूरत महसूस करता है. वैसे तो समाज की कंडीशन ने पुरुषों के लिए उनकी गहरी आशंकाओं और कमजोरियों को बताना बहुत ही कठिन बना दिया है. जब तक एक पुरुष को आप पर पूरा भरोसा नहीं होता है, तब तक वो अपनी वास्तविकता को आपसे छिपाने की पूरी कोशिश करते रहेंगे.

You may also like...