बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के सुसाइड ने फैंस के साथ ही बॉलीवुड इंडस्ट्री के कई लोगों को सदमे में डाल दिया है. सुशांत पिछले कुछ समय से डिप्रेशन में चल रहे थे. सोशल मीडिया पर उनके निधन के कारणों को लेकर कई तरह की थ्योरीज दी जा रही हैं. कई लोग सुशांत के इस कदम का जिम्मेदार नेपोटिज्म मान रहे हैं वहीं कई लोगों ने इसे तनाव और साइकोसिस से जुड़ा मामला बताया जा रहा है.

आपको बता दें कि मनोज वाजपेयी के साथ ट्विटर पर बातचीत में शेखर कपूर और रामगोपाल वर्मा ने सुशांत के सुसाइड को उतना ही त्रासदी भरा बताया जितना आज से 12 साल पहले हॉलीवुड स्टार हीथ लेजर का निधन था. साल 2008 में क्रिस्टोफर नोलन की रिलीज हुई फिल्म दि डार्क नाइट में हीथ लेजर ने जोकर का किरदार निभाया था. मेथड एक्टिंग को नए स्तर पर ले जाने वाले हीथ ने इस रोल के लिए अपने आपको लंदन के एक होटल रुम में महीने तक बंद रखा था. वे कई आवाजों के साथ प्रयोग करते थे. इस डार्क और नेगेटिव किरदार के लिए उन्होंने एक डायरी भी बनाई थी. हीथ ने अपने इस कैरेक्टर के लिए खास तैयारी की थी और इस दौरान वे इस किरदार में इतना घुस गए थे कि जोकर का किरदार उनकी पर्सनैलिटी का एक हिस्सा बन गया था.

हॉलीवुड एक्टर हीथ लेजर का जब निधन हुआ तो फिल्म डार्क नाइट की एडिटिंग चल रही थी और वे उस दौर में ‘Imaginarium of Doctor Parnassus’ की शूटिंग कर रहे थे. हीथ लेजर के कुछ दोस्तों का कहना था कि जोकर फिल्म के किरदार के चलते वे ‘वॉकिंग निमोनिया’ से ग्रस्त हो चुके थे और उन्हें सोने में काफी दिक्कत आती थी. हीथ के एक दोस्त उस दौर में उनके साथ ही रह रहे थे. पीपल मैगजीन के साथ बातचीत में इस शख्स ने बताया था कि फिल्म की शूटिंग सुबह होती थी लेकिन इसके बावजूद वे रात में अपार्टमेंट में घूमते रहते थे और जब मैं उसे नीचे बुलाता था तो वो कहता था कि वो सो ही नहीं पा रहा है. वे रेस्ट ले सके इसलिए कुछ नींद की दवाओं के साथ ही कई और दवाओं के साथ प्रयोग करने लगे थे. हीथ के इसी मिश्रण में गलती से ओवरडोज के चलते मौत हो गई थी.

हीथ लेजर ने महज 28 साल की उम्र में जोकर का किरदार निभाकर ना सिर्फ हीरो के तौर पर विदाई ली बल्कि हमेशा के लिए लोगों के दिलों में जगह बनाने में भी कामयाब रहे. हीथ लेजर को अपने इस यादगार किरदार के लिए बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का ऑस्कर अवॉर्ड मिला था और बैटमेन सीरीज फिल्मों में हीथ के जोकर को सबसे बेहतरीन विलेन के माना जाता है.