148 सालों बाद लगने वाला है ऐसा सूर्य ग्रहण, जानें कब और कहां देगा दिखाई

साल का पहला सूर्य ग्रहण 10 जून को लगने वाला है. भारतीय समयानुसार ये सूर्य ग्रहण दोपहर 1.42 से शाम 6.41 बजे तक रहने वाला है. वहीं देश कुछ ही हिस्सों में इस सूर्य ग्रहण को देखा जा सकता है. ये केवल अरुनाचल प्रदेश और लद्दाख में ही दिखाई देगा. हालांकि वैसे तो हर साल एक बार से ज्यादा ही सूर्य ग्रहण देखने को मिलता है, लेकिन इसके बावजूद खगोलीय घटनाओं में रूची रखने वाले लोगों के लिए ये काफी चर्चित विषय रहता है.

जानकारी के लिए बता दें कि ये अद्भुत नजारा तब देखने को मिलता है जब सूर्य, चंद्रमा और पृथ्वी एक सीध में आते है और ऐसा होने की वजह से चंद्रमा सूर्य से आने वाली रोशनी को रोक देता है. वहीं जब चंद्रमा के एक किनारे से थोड़ी सी रोशनी बाहर आती है तो वो किसी हीरे की अंगूठी की तरह दिखाई देता है. रिंग ऑफ फायर के नाम से जाने जाने वाला यह दृश्य लोगों को काफी पसंद आता है.

वहीं होने वाले सूर्य ग्रहण की बात करें तो भारत में ये अरुनाचल प्रदेश के दिबांग वन्यजीव अभ्यारण्य के पास 5.52 में दिखाई देगा, वहीं लद्दाख के उत्तरी हिस्से में ये 6 बजे देखा जा सकेगा. भारत के अलावा ये सूर्य ग्रहण उत्तरी कनाडा, उत्तरी अमेरिका, एशिया और यूरोप, रूस और ग्रीनलैंड के एक बड़े हिस्से में दिखाई देगा.

बताते चलें कि धार्मिक तौर पर भी सूर्य ग्रहण का काफी अधिक महत्व है. वहीं 10 जून को लगने वाला ये सूर्य ग्रहण वट सावित्री व्रत वाले दिन लगने वाला है. साथ ही इस दिन शनि ज्यंति और ज्येष्ठ अमावस्या भी है. धार्मिक तौर पर ये ग्रहण ज्यादा अहमियत इसलिए भी रखता है क्योंकि शनि ज्यंति पर सूर्य ग्रहण का योग 148 साल बाद बनने जा रहा है. हालांकि, धार्मिक नजरिए से इस तरह से ग्रहण को शुभ नहीं माना जाता है.

You may also like...