क्या महिलाओं का काम केवल बच्चे पैदा करना है? महिलाओं को ऐसे दबाने की कोशिश कर रहा तालिबान

जिस वक्त से तालिबान ने अफगानिस्तान पर कब्जा किया है, तब से ही वहां की महिलाओं पर हो रहे अत्याचारों की खबर लगातार मिलती रही है. इन अत्याचारों से पीड़ित होकर महिलाओं ने भी अब मोर्चा संभालना शुरू कर दिया है. वहीं अब घबराए तालिबान ने ऐसी प्रदर्शनकारी महिलाओं के पंख एक बार फिर कुतरने की कोशिश शुरू की है. जिसके तहत तालिबान ने नया फरमान जारी करते हुए कहा है कि अब किसी भी प्रदर्शन को करने से पहले इजाजत लेनी होगी. बताते चलें कि महिलाएं लगातार तालिबान के अत्याचारों के खिलाफ और अपने अधिकारों के लिए आवाज उठा रही हैं.

प्रदर्शनों को रोकने के लिए तालिबान ने कई नए नियम बनाए हैं. इन नियमों के तहत प्रदर्शन करने से पहले अब न्याय मंत्रालय से इजाजत लेनी होगी. स्थानीय अखबार पझवोक न्यूज की खबर के अनुसार, मंत्रालय को प्रदर्शन का उद्देश्य, स्लोगन, स्थान, समय और अन्य जानकारियां देनी होंगी.

ये भी पढ़ें- 4 साल की बेटी को बेचने निकला मजबूर अफगानी बाप, कहा- बेटी को बेचने से अच्छा मैं मर जाता, लेकिन…

बताते चलें, बुधवार को महिलाओं के खिलाफ तालिबान का असली रवैया तब देखने को मिला, जब तालिबानी लड़ाकों ने देश के विभिन्न हिस्सों में महिला प्रतिनिधित्व और अधिकारों के लिए रैली निकाल रही महिलाओं पर हमला कर दिया. तालिबानियों ने इन रैली को तितर-बितर करने के लिए हवाई फायरिंग तक कर डाली. इस दौरान कई महिलाओं को बुरी तरह पीटा भी गया.

बता दें कि हाल ही में तालिबान के प्रवक्ता तालिबान के प्रवक्ता सैयद जकीरुल्लाह हाशमी ने एक बयान दिया है. जकीररुल्लाह ने कहा, ‘एक महिला मंत्री नहीं बन सकती. महिला का मंत्री बनना ऐसा है, जैसे उसके गले में कोई चीज रख देना, जिसे वो उठा नहीं सकती हैं. महिलाओं का कैबिनेट में होना जरूरी नहीं है. उन्हें बच्चे पैदा करना चाहिए. उनका यही काम है. महिला प्रदर्शनकारी अफगानिस्तान में सभी का प्रतिनिधित्व नहीं कर रही हैं.’ तालिबान प्रवक्ता का ये बयान शायद किसी भी आत्मसम्मान वाली महिला का खून खौला दे.

जानकारी के लिए ये भी बता दें कि अपने अधिकारों को लेकर पूरे अफगानिस्तान में संघर्ष कर रहीं महिलाओं का प्रदर्शन बढ़ता जा रहा है. काबुल में सड़कों पर उतर चुकी महिलाओं का प्रदर्शन उत्तर-पूर्वी प्रांत बदख्शां तक पहुंच गया है. बदख्शां में भी कई महिलाएं सड़कों पर उतर चुकी हैं.

 

You may also like...