“मणिकर्णिका” के को- डायरेक्टर ने बताया कंगना को घमंडी. कहा “कंगना बहुत रूड हैं”

फिल्म “मणिकर्णिका” आजकल सिर्फ अपने बॉक्स ऑफिस पर किए कमाल के लिए चर्चे में ही नहीं है, मगर फिल्म से ज़्यादा फिल्म के इर्द-गिर्द घूम रहे विवादों पर चर्चा  न्यूज़ चैनल्स तक पहुँच चुकी है. 100 करोड़ में बनी इस फिल्म में ने अपने पहले वीकेंड में 40 करोड़ कमाए जो एक फिल्म के लिए बहुत ही उम्दा रिकॉर्ड बताया जाता है. फिल्म अपने साथ रिलीज़ हुई बालासाहेब ठाकरे की जीवनी “ठाकरे” के मुकाबले काफी बेहतर प्रदर्शन कर रही है. अब विवादों पर गौर करें, तो फिल्म की शूट छोड़ चुके सोनू सूद ने भले ही फिल्म देखने के बाद अपना शूट छोड़ने का दुःख जताया हो, मगर वहीँ फिल्म के पुराने सह-निर्देशक कृष ने कंगना को लेकर मीडिया में बहुत खरी सुनाई है.

सबसे पहले क्रेडिट. फिल्म में कंगना ने कृष को डायरेक्टर का क्रेडिट तो दिया,मगर उनके पूरे नाम के साथ जो कृष कभी नहीं देते. कृष अपने प्रोफेशनल नाम के साथ ही क्रेडिट देते हैं. वहीँ, री-शूट को लेकर कृष ने ये बताया की पहले भाग में 25 फ़ीसदी और दूसरे भाग में 14 फ़ीसदी काम हुआ है, और उनके हिसाब से आउटपुट बिलकुल अच्छा नहीं है.

 

कृष ने आगे बताया, कि फिल्म में रानी लक्ष्मीबाई के सहयोगियों पर फोकस उनके वर्शन के मुकाबले कम हुआ है. सिर्फ के अंत में युद्ध के सीन को कृष ने तारीफ की, ये बताकर कि कुछ शॉट्स ही ऐड करने की वजह से सीन लम्बा मगर ठीक हुआ है. कृष ने इस बात का दावा किया, कि फिल्म की एडिट जून तक ख़त्म कर देनी थी क्यूंकि उनको एक तेलुगु फिल्म की शूटिंग चालु करनी थी. उन्होंने फिल्म की डबिंग भी पूरी कर दी थी, सिवाय कंगना के क्यूंकि वो अपनी अगली फिल्म “मेन्टल है क्या” की शूट में व्यस्त थी. वापस आकर कंगना ने कृष के वर्शन को “भोजपुरी फिल्म” का दर्जा दे दिया और कंगना ने निर्देशन की कमान संभाली.

सोनू सूद के शूट छोड़ने पर, कृष ने सफाई दी कि  दरसल कंगना सोनू के किरदार सदाशिव राव को पहले भाग में ही मार देना चाहती थी, जो कि  ऐतिहासिक तथ्यों के मुताबिक़ गलत था.  सोनू का किरदार फाइनल फिल्म में करीबन 100  मिनट का था और फिर कंगना ने उसको 60 मिनट का बना दिया, जिसपर कोई नहीं राज़ी होता. फिल्म का एडिटर बदला गया और नए सीक्वेंस भी डाले गए.

कंगना के बारे में कृष ने बताया कि वो इन्सेक्युर नहीं, बल्कि घमंडी हैं जिनको सब कुछ अपने हिसाब से चाहिए। अंत में उन्होंने ये कहा कि वो बहुत रूड हैं.

कंगना, आपके लिए हमारी तरफ से दो शब्द ही बहुत हैं; टेक केयर।

Loading...

You may also like...

shares