अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद से ही काफी कुछ देखने को मिला है. एक बार फिर अफगानिस्तान में तालिबानी शासक महिलाओं को दबाने की कोशिश में जुट गए हैं. महिलाओं के कई तरह के अधिकारों को छीन लिया गया है. महिलाओं की हालत अफगानिस्तान में ऐसी हो चली है कि वहां के महिलाओं से जुड़े मंत्रालय में भी जाने के लिए महिलाओं पर पाबंदी लगा दी गई है. इसी के साथ ही इंटरनेट पर एक अफगानी लड़की का वीडियो काफी ज्यादा वायरल हो रहा है.

इस वीडियो में लड़की कह रही है, ‘हमारे पास देश के लिए कुछ करने का मौका है. अल्लाह ने हमें ये मौका दिया है. लड़कियों को समान अधिकार दिए हैं. तालिबान हमसे ये अधिकार और मौका कैसे छीन सकता है? आज की लड़कियां कल जाकर मां बनेंगी. अगर उन्हें पढ़ने लिखने नहीं दिया जाएगा, तो कल को वो अपने बच्चों को क्या सिखाएंगी? मैं नई जनरेशन की लड़की हूं. मैं केवल खाने, सोने और घर पर रहने के लिए नहीं पैदा हुई. मैं पढ़ना चाहती हूं.स्कूल जाना चाहती हूं. मैं भी अपने देश की तरक्की के लिए कुछ करना चाहती हूं.क्या आप सोच सकते हैं कि बिना शिक्षा के हमारा देश कैसे विकसित होगा? अगर मुझे शिक्षा नहीं मिलती है; अगर अफगानिस्तान में किसी लड़की को शिक्षा नहीं मिलेगी, तो हमारी अगली पीढ़ी कैसे संस्कारी होगी? यदि हमारे पास शिक्षा नहीं है, तो इस दुनिया में हमारा कोई मूल्य नहीं होगा.’

 

ये भी पढ़ें- तालिबान राज में छिन रही महिलाओं की आजादी, कहा- सिर्फ बच्चे पैदा करो

बता दें कि इस बार तालिबानियों का कहना था कि अफगानिस्तान में उनका रवैया अलग होने वाला है. हालांकि, उनकी कथनी और करनी में अभी से फर्क देखने को मिल रहा है. एक बार फिर अफगानिस्तान में खूनी खेल शुरू होता दिखाई दे रहा है. एक बार फिर तालिबानी लोगों को हाथ-पैर काटने और सजा-ए-मौत देने का सिलसिला शुरू करने वाले हैं.