क्या सच में भारत में नहीं आएगी कोरोना की तीसरी लहर? एम्स निदेशक ने कहा…

अब तक ना सिर्फ देश में बल्कि दुनिया भर में कोरोना ने लोगों का जीना मुहाल कर रखा है. इस महामारी ने कई लोगों से उनकी जिंदगी छीनी तो कई लोगों से उनके जीने का आसरा ही छीन लिया. लेकिन अब इसकी दूसरी लहर कमजोर होती हुई नजर आ रही है. कोरोना के मामले लगातार घटते हुए दिख रहे हैं. बीते मंगलवार को इसके करीब 26 हजार नए मामले सामने आए हैं. जबकि इसके कारण हुई मौत की संख्या 252 रही.

वहीं अब कोरोना मामले में दिल्ली एम्स के निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया का कहना है कि कोरोना वायरस अब महामारी नहीं रह गया है. हालांकि, उन्होंने इससे सतर्क रहने को कहा है. उन्होंने कहा कि जब तक भारत में हर व्यक्ति को वैक्सीन नहीं लग जाती तब तक सावधानी बरतने की जरूरत है.

ये भी पढ़ें- दिल्ली के गौरव को पोलैंड के प्रेजमैक से हुआ प्यार, ऐसी रही दो लड़कों की प्रेम कहानी

साथ ही एम्स निदेशक ने सभी को त्योहारों पर भीड़-भाड़ से बचने की सलाह दी है. साथ ही डॉक्टर गुलेरिया ने कहा कि देश में अब रोजाना कोरोना के 25 से 40 हजार के बीच मामले आ रहे हैं. अगर लोग सतर्क रहे तो संक्रमण के मामले धीरे-धीरे कम हो सकते हैं. डॉक्टर गुलेरिया का कहना है कि भारत में कोरोना पूरी तरह कभी खत्म नहीं होगा. हालांकि, जिस तेजी से देश में वैक्सीनेशन हो रहा है, उस हिसाब से कोरोना का अब महामारी की शक्ल लेना या बड़े पैमाने पर फैलना मुश्किल है.

एम्स निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया के कहे अनुसार कोरोना वायरस जल्द ही आम फ्लू की तरह हो जाएगा. इसका कारण उन्होंने बताया है कि लोगों में अब कोरोना के खिलाफ इम्युनिटी तैयार चुकी है. हालांकि, बीमार और कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगों को अब भी इससे जान का खतरा हो सकता है.

You may also like...